Thursday, April 4, 2013

राहुल ये क्या, मां बहुत रोएगी !

मुझे लगता है कि अभी राहुल गांधी को CII जैसे सार्वजनिक कार्यक्रमों में जाने से बचना चाहिए। अब देखिए उनके पहले ही सार्वजनिक आयोजन को लोगों ने खारिज कर दिया। फेसबुक पर तो आज राहुल के बारे में पढ़कर लोग मनोरंजन कर रहे हैं, कह रहे हैं आज का दिन तो राहुल ने निकाल दिया, शाम को आईपीएल में मुंबई इंडियन का मैच देखकर बिता लिया जाएगा। सबसे अच्छी प्रतिक्रिया मैडम अजित गुप्ता जी की .. " पर्चा अर्थशास्त्र का उत्तर समाज शास्त्र का " वैसे मैं भी ये जानना चाहता हूं कि किसकी राय थी कि राहुल को सीआईआई के आयोजन मे जाना चाहिए। मुझे पूरा विश्वास है कि ये राय देने वाला कम से कम राहुल और कांग्रेस का भला नहीं चाहता।

एक उद्यमी की प्रतिक्रिया थी कि " राहुल के आने के बाद दरवाजे बंद हुए तो मुझे लगा कि ये सुरक्षा कारणों से है, पर बाद में असली वजह समझ में आई, वो ये कि कहीं उद्यमी राहुल का भाषण बीच में छोड़ कर निकल ना जाएं " खैर भगवान बचाए ! बहरहाल राहुल गांधी ने जिस तरह नाक कटाई है, उसके बाद तो सच में किसी भी मां की नींद उड़ जाएगी। अब बड़ा सवाल ये है कि...

आज रात मां कमरे में आएगी या नहीं ?
आई तो रोती ही रहेगी या कुछ बोलेगी भी ?
क्या अभी मां को बेटे से कोई उम्मीद है ?
ऐसा तो नहीं कि मां दिन में ही रो रही हो ?
आखिरी दो सवाल !
CII क्या फिर राहुल को बुलाएगी कभी ?
क्या कांग्रेस को अभी भी उम्मीद है राहुल से ?

आपके जवाब का इंतजार .....

10 comments:

  1. हाहाहहाहाह
    श्रीवास्तव जी आपके सवाल जायज हैं। जवाब देना तो बनता है।

    ReplyDelete
  2. sir Rahul Gandhi ki NAAK bhi nahi bachi aaj .......aage kya hoga ..?

    ReplyDelete
    Replies
    1. हां ये तो सोचने वाली बात है

      Delete
  3. बचकाने कंधों पर
    पहाड़ सा बोझ
    रख ठोड़ी पे हाथ
    माँ रही अब सोच .......???

    शुभकामनायें !हम सब को ....

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी, ये बात तो सचहै
      मां यही सोच रही होगी...

      Delete
  4. राहुल का संभाषण किसी को अच्छा नहीं लगता। जिस तेजी से वे सियासी बज्म में प्रासंगिक हुए उतनी ही तेजी से हंसी के पात्र भी बनते जा रहे हैं।- सखाजी

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी ये बात तो बिल्कुल सही है....
      आभार

      Delete
  5. हा हा हा हा हा लाजवाब ! सुन्दर पोस्ट लिखी आपने | पढ़ने पर आनंद की अनुभूति हुई | इसके जैसे आउल बाबाओं को ऐसे की सबक मिलें तो बढ़िया है | आभार |

    कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
    Tamasha-E-Zindagi
    Tamashaezindagi FB Page

    ReplyDelete
  6. अरे हुज़ूर किस गधे की चर्चा में लगे हैं सब... ओह गधा कह गया मैं... गधे का अपमान कर दिया :)


    कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
    Tamasha-E-Zindagi
    Tamashaezindagi FB Page

    ReplyDelete